बलौदाबाजार हिंसा पर हुई कार्रवाई, एसपी और कलेक्टर सस्पेंड…

post

Azaad-bharat News/बलौदाबाजार हिंसा के 3 दिन बाद सरकार ने इसकी गाज जिले के कलेक्टर और एसपी पर गिराई है।बलौदाबाजार जिले में हुई हिंसा के मामले में विष्णुदेव साय सरकार ने कार्रवाई करते हुए कलेक्टर के.एल. चौहान और एसपी सदानंद कुमार दोनों अधिकारियों को निलंबित कर दिया है।निलबंन की अवधि में आईएएस के. एल. चौहान का मुख्यालय महानदी भवन होगा वहीं एसपी सदानंद का मुख्यालय रायपुर में पुलिस हेडक्वार्टर होगा।

एक सदस्यीय जांच आयोग का गठन:-

इसके अलावा राज्य सरकार ने इस मामले में एक सदस्यीय न्यायिक जांच आयोग का गठन किया है, यह आयोग 6 बिंदुओं पर हिंसा की जांच करेगा।आयोग तीन महीने के अंदर रिपोर्ट शासन को भेजेगा।इस आयोग की अध्यक्षता सेवानिवृत्त न्यायाधीश सी.बी. वाजपेई करेंगे।

121 की हुई गिरफ्तारी:-

बलौदा बाजार में हुई हिंसा को लेकर पुलिस ने अभी तक विभिन्न धाराओं में 8 एफआईआर दर्ज की है।पुलिस उपद्रवी तत्वों के छिपने के ठिकानों पर लगातार दबिश दे रही है। पुलिस पूछताछ के लिए कई लोगों को हिरासत में ले चुकी है, घटना के बाद पुलिस ने 82 लोगों को गिरफ्तार किया था। पुलिस ने 13 जून को भी 39 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।इस मामले में बलौदा बाजार पुलिस अभी तक 121 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है।

यह है मामला:-

15-16 मई की दरमियानी रात कुछ असामाजिक तत्व गिरौधपुरी धाम में घुस गए थे, उन्होंने सतनामी समाज के धार्मिक स्थल के पूज्य जैतखाम में तोड़फोड़ की थी, मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया था। पुलिस की इस कार्रवाई से समाज के लोग असंतुष्ट थे और न्यायिक जांच की मांग कर रहे थे।

बलौदाबाजार हिंसा पर हुई कार्रवाई, एसपी और कलेक्टर सस्पेंड…

 न्यायिक जांच की घोषणा भी कर दी थी।जैतखाम में तोड़फोड़ के विरोध में हजारों लोग 10 जून को कलेक्टोरेट के पास इकट्ठे हुए और जमकर हंगामा किया।यहां उनका प्रदर्शन हिंसक हो गया। इसके बाद उपद्रवियों ने तांडव मचाते हुए कलेक्ट्रेट और एसपी कार्यालय को आग के हवाले कर दिया, इस घटना में वहां मौजूद 20-30 पुलिसकर्मी घायल हो गए थे। फिलहाल शहर में 16 जून तक धारा 144 लागू है।

You might also like!





RAIPUR WEATHER